• Tuesday, 07 February 2023

भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मुंगेर विश्वविद्यालय की वीसी को विद्यार्थी परिषद ने घेरा, जमकर हंंगामा

भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मुंगेर विश्वविद्यालय की वीसी  को विद्यार्थी परिषद ने घेरा, जमकर हंंगामा
भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मुंगेर विश्वविद्यालय की वीसी  को विद्यार्थी परिषद ने घेरा, जमकर हंंगामा
 
शेखपुरा
 

गुरुवार को मुंगेर विश्वविद्यालय की वीसी का शेखपुरा के आर डी कॉलेज में जमकर विरोध हुआ । इस दौरान काफी हंगामा हुआ और कॉलेज प्रबंधन के द्वारा काफी  मशक्कत से मुंगेर विश्वविद्यालय की वीसी को कॉलेज के अंदर प्रवेश कराया गया है। एक बैठक में शामिल होने के लिए यहां आई हुई थी। मुंगेर विश्वविद्यालय की वीसी डॉ श्यामा राय का यह विरोध विद्यार्थी परिषद के द्वारा किया गया। इसमें विद्यार्थी परिषद के कई छात्र नेता शामिल हुए ।

 
जानकारी देते हुए मुंगेर विश्वविद्यालय के संभाग प्रभारी आकाश कश्यप ने बताया कि मुंगेर विश्वविद्यालय में व्याप्त अनियमितता को लेकर उपकुलपति का घेराव किया गया । 
 
दरवाजे पर उनका घेराव किया गया। किसी तरह से उनको अंदर ले जाया गया। वहीं भ्रष्टाचार के मुद्दे पर लगातार आंदोलन किया जाता रहेगा। उन्होंने बताया कि मुंगेर विश्वविद्यालय में शोध परीक्षा को लेकर नामांकन की तिथि जारी कर दी गई है परंतु ना भवन बना है ना किसी तरह का संसाधन है। मुंगेर विश्वविद्यालय का भी अपना कोई भवन नहीं है। वहीं शेखपुरा जिले से संबंधित कई मुद्दों को लेकर विरोध किया जा रहा है जिसमें संजय गांधी महिला कॉलेज में विद्यार्थियों से स्नातक में नामांकन के लिए ₹1000 लिए जाने का मामला भी प्रमुखता से है।
भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मुंगेर विश्वविद्यालय की वीसी  को विद्यार्थी परिषद ने घेरा, जमकर हंंगामा
भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मुंगेर विश्वविद्यालय की वीसी  को विद्यार्थी परिषद ने घेरा, जमकर हंंगामा

इस मामले में कॉलेज में कुछ देर के लिए बुधवार को भी तालाबंदी की गई थी। वही रामाधीन कॉलेज में सवा करोड़ रुपए से एक भवन बन रहा है इसमें भी अनियमितता की गई है। छात्र नेताओं ने बताया कि यहां शौचालय निर्माण, मिट्टी भराई में भी गड़बड़ी की गई है। महिला छात्रावास है ही नहीं परंतु उसमें भी गोलमाल की खबर सामने आ रही है। इसी की तरह कई अन्य मुद्दों पर मुंगेर विश्वविद्यालय के उपकुलपति का घेराव किया गया । जिसमें गेस्ट फैकेल्टी के बहाली में भी अनियमितता की बात छात्र नेताओं ने बताई और कहा कि 75 पर्सेंट वालों की बहाली नहीं हुई और 68 परसेंट वालों को बहाल कर लिया गया है। वहीं मुंगेर विश्वविद्यालय के द्वारा 15 लाख से अधिक की राशि मगध विश्वविद्यालय के ट्रांसफर करने का मामला भी उठाया गया। रिजल्ट के प्रकाशन में भी छात्रों को भारी परेशान किया जाता है। गलत रिजल्ट प्रकाशित किया जाता है और स्कूटनी के नाम पर छात्रों से अवैध वसूली होती है जो छात्र पैसा देते हैं उनका रिजल्ट सुधार कर दिया जाता है । इस अवसर पर विद्यार्थी परिषद से जुड़े बड़ी संख्या में छात्र नेता शामिल हुए। इसमें नगर उपाध्यक्ष राहुल कुमार, नगर सह मंत्री निशांत राज, कॉलेज इकाई उपाध्यक्ष बिट्टू सम्राट, अभिजीत राज, आलोक कुमार समेत दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Share News with your Friends

Comment / Reply From

You May Also Like