• Wednesday, 05 October 2022
पुलिस गश्ती दल को पुलिस कप्तान ने रात में वसूली करते पकड़ा और फिर

पुलिस गश्ती दल को पुलिस कप्तान ने रात में वसूली करते पकड़ा और फिर

पुलिस गश्ती दल को पुलिस कप्तान ने रात में वसूली करते पकड़ा और फिर

शेखपुरा
शेखपुरा के पुलिस कप्तान कार्तिकेय शर्मा पुलिस पदाधिकारी और पुलिस कर्मियों के द्वारा आम लोगों, वाहनों से अवैध वसूली और भ्रष्टाचार को रोकने में लगातार लगे हुए हैं। उन्होंने जिला का पदभार संभालते ही बरबीघा के मिशन ओपी पुलिस गश्ती दल को वसूली करते पकड़ा और पूरे गश्ती दल को निलंबित कर दिया । इसी तरह से उनके द्वारा शेखपुरा नगर परिषद के टाउन थाना पुलिस गश्ती दल और जिले के चेवाड़ा थाना के पुलिस गश्ती दल को भी वाहनों से रात्रि में वसूली करते पकड़ा था और उसे निलंबित कर दिया था। कई महीने तक पुलिसकर्मी शांत रहे परंतु एक बार फिर पुलिसकर्मी अपनी आदत में लग गए।

वसूली करते गश्ती दल को फिर पकड़ लिया

गुरूवार को रात्रि में पुलिस कप्तान निगरानी में निकले तो वसूली करते गश्ती दल को फिर पकड़ लिया और पूरे गश्ती दल को निलंबित कर दिया। इस कार्रवाई से एक बार फिर पुलिस कर्मियों में हड़कंप है। इस संबंध में जानकारी देते हुए पुलिस कप्तान कार्तिकेय शर्मा ने बताया कि गुरुवार की रात्रि में वे निगरानी में निकले तो शेखपुरा टाउन थाना के गश्ती दल कॉलेज मोड़ के पास वाहनों से वसूली कर रही थी। जिसे निलंबित कर दिया गया। इस गश्ती दल के पुलिस पदाधिकारी एएसआई भूषण यादव सहित तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है। जबकि इसी तरह से आगे बढ़ने पर चेवाड़ा थाना पुलिस गश्ती दल भी वाहनों से वसूली करते पाए गए। पूरे गश्ती दल को यहां भी निलंबित किया गया है। इस गश्ती दल के पुलिस पदाधिकारी बृजभूषण सिंह और तीन पुलिसकर्मी  निलंबित हुए हैं।

थाना अध्यक्ष जयशंकर मिश्रा को लाइन हाजिर कर दिया

थाना अध्यक्ष जयशंकर मिश्रा
पुलिसकर्मियों में होमगार्ड के जवान अनिल सिंह राजदेव प्रसाद और अब्बास शामिल है बता दें कि पुलिस महकमे में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस कप्तान लगातार सक्रिय रहे हैं। 4 दिन पहले ही शेखपुरा जिले के बरबीघा पुलिस पर कार्रवाई की थाना अध्यक्ष जयशंकर मिश्रा को लाइन हाजिर कर दिया और उनके विरुद्ध डीआईजी को निलंबन की कार्रवाई करने के लिए लिखा गया है। उनके ऊपर अनियमितता का आरोप लगा था। इसी थाना के एसआई असलम खान को भी निलंबित कर दिया गया। दोनों के विरुद्ध निलंबन की कार्रवाई पटना में एक निर्दोष को गाड़ी चोरी के मामले में फंसाए जाने की वजह से की गई । वही एक वृद्ध के मृत होने पर थानाध्यक्ष ने पहल नहीं की थी जबकि उनको हत्या किए जाने की सूचना मिली थी।

Share News with your Friends

Comment / Reply From

You May Also Like