शेखपुरा

ऑफिस में न बैठें, स्कूल का निरीक्षण करें अधिकारी। जो शिक्षक पढ़ाने लायक नहीं उनको पढ़ाना सिखाया जाए..डीएम सख्त

शेखपुरा।

शेखपुरा डीएम योगेंद्र सिंह ने शेखपुरा जिले के शिक्षा व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त करने का संकल्प उठा लिया है। इसीके तहत मंगलवार को श्रीकृष्ण सभागार में हुई समीक्षा बैठक में उन्होंने शिक्षा विभाग से जुड़े सभी अधिकारियों की जबरदस्त क्लास ली।

जो शिक्षक पढ़ाने लायक नहीं उनको दिया जाए प्रशिक्षण

उपरोक्त और निम्नलिखित बातों की जानकारी देते हुए जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी सत्येंद्र प्रसाद ने बताया कि जिला अधिकारी के द्वारा जिला शिक्षा पदाधिकारी नंदकिशोर राम को यह निर्देश दिया गया है कि स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता का ख्याल रखा जाए हैं और जो भी शिक्षक बच्चों को पढ़ाने में असमर्थ हैं उनको पढ़ाने के लिए प्रशिक्षण दिया जाए ताकि वह बच्चों को पढ़ा सके।

डीपीओ से बैठक में गायब रहने पर शो काउच

शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक में बीपीओ शिवचंद्र बैठा के गायब रहने पर शोकॉज नोटिस भी जारी किया गया। जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक में सभी अधिकारियों को सप्ताह में 5 दिन स्कूलों का निरीक्षण कर रिपोर्ट देने की बात कही।

पानी की वजह से बंद नहीं हो एमडीएम

जिलाधिकारी ने सख्त निर्देश दिया कि पानी की कमी का बहाना बनाकर किसी भी स्कूल में एमडीएम बंद नहीं होना चाहिए। ऐसी शिकायत आने पर सख्ती की जाएगी।

साथ ही साथ कहा कि जिन स्कूलों में बिजली नहीं है वहां 24 घंटे के अंदर बिजली लगा दी जाए।

स्कूलों का होगा ग्रेडिंग

जिलाधिकारी ने सभी जिले के 477 स्कूलों का ग्रेडिंग करने का निर्देश दिया। जिस स्कूल का ग्रेडिंग बेहतर होगा उसे बेहतर सम्मान दिया जाएगा।

%d bloggers like this: