• Tuesday, 07 February 2023
रेलवे का तुगलकी फैसला, क्रॉसिंग पर रोड को बैरियर लगाकर कर दिया बंद, आंदोलन की तैयारी

रेलवे का तुगलकी फैसला, क्रॉसिंग पर रोड को बैरियर लगाकर कर दिया बंद, आंदोलन की तैयारी

रेलवे का तुगलकी फैसला, क्रॉसिंग पर रोड को बैरियर लगाकर कर दिया बंद, आंदोलन की तैयारी 

 

शेखपुरा

 

शेखपुरा में रेलवे का एक तुगलकी फैसला सामने आया है । इस फैसले के खिलाफ आंदोलन की तैयारी शुरू हो गई है। नववर्ष के दिन ही बैठक करके किसान और सामाजिक राजनीतिक कार्यकर्ताओं ने रणनीति तैयार की है और आंदोलन की रूपरेखा बना लिया है। दरअसल यह पूरा मामला क्यूल गया रेलखंड से जुड़ा हुआ है।

 इस रेलखंड में शेखपुरा नगर परिषद के आगे कुसुंभा हॉल्ट के पास पिछले महीने एक हादसा हुआ था जिसमें गया हावड़ा एक्सप्रेस से एक ट्रैक्टर के टकरा जाने की बात आई थी। इसमें ट्रैक्टर चकनाचूर हो गया था परंतु किसी के जानमाल की क्षति नहीं हुई थी। यह हादसा मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग पर हुआ था। हादसे के बाद रेलवे ने एक तुगलकी फरमान जारी किया और क्रॉसिंग के पास रेलवे ने पिलर और बैरियर लगाकर रोड को ही बंद कर दिया। अब इस रोड के बंद हो जाने से नवादा शेखपुरा के कई गांव के लोगों को परेशानी हुई वाहनों का आवागमन बंद हो गया।

 

 

दरअसल रेलवे के इस फैसले से कुसुंभा गांव के किसानों को भी परेशानी बढ़ गई रेलवे के उस पार 100 एकड़ से अधिक खेत जोतने में किसान परेशान होने लगे जबकि नवादा जिला के कई गांव को जोड़ने वाली इस सड़क के बंद होने से कई गांव के लोग भी परेशान हो गए।

 

 

 

बैठक में कौन-कौन हुए शामिल

 

 

 बैठक की अध्यक्षता राजेन्द्र प्रसाद और संचालन प्रफुल्ल पटेल ने किया। बैठक में आस पास के दर्जनों गांव के सामाजिक कार्यकर्ता भाग लिए। भाकपा माले नेता कमलेश कुमार मानव, खखरी पंचायत के सरपंच दयानंद शर्मा, पार्वती पंचायत के उपसरपंच उमेश प्रसाद, ईश्वर दयाल, उमेश शर्मा, परिछन बिंद, कृष्णा बिंद, आजादी साव, सत्येंद्र कुमार, अवधकिशोर प्रसाद, राजकुमार प्रसाद, रामनंदन राउत, सिद्धेश्वर चौहान, राम बिंद, आनंदी यादव, भोला बिंद आदि अन्य सामाजिक कार्यकर्ता बैठक में उपस्थित हुए। 

 

 

बैठक को संबोधित करते हुए कमलेश कुमार मानव ने कहा कि क्रॉसिंग बंद किए जाने से शेखपुरा और नवादा जिले के लाखों लोग प्रभावित हो रहे हैं। इसको चालू करवाने के लिए सबसे पहले संबंधित अधिकारियों को आवेदन दिया जाएगा। और आगे की रणनीति तय करने के लिए अगले 15 जनवरी को मोर्चा की बैठक की जाएगी। उन्होंने बताया कि रेलवे क्रॉसिंग चालू करवाने के लिए "कुसुम्भा रेलवे क्रॉसिंग संघर्ष मोर्चा" का भी गठन किया गया। 21 सदस्यीय मोर्चा का कॉ प्रफुल्ल पटेल को संयोजक और ईश्वर दयाल को कोषाध्यक्ष बनाया गया है।

Share News with your Friends

Comment / Reply From