• Tuesday, 06 December 2022
मजबूत ओबीसी जाति हड़प रही है अति पिछड़ों के आरक्षण का लाभ: उठी आवाज

मजबूत ओबीसी जाति हड़प रही है अति पिछड़ों के आरक्षण का लाभ: उठी आवाज

मजबूत ओबीसी जाति हड़प रही है अति पिछड़ों के आरक्षण का लाभ: उठी आवाज 
 
शेखपुरा
 
मजबूत ओबीसी जातियों के द्वारा अति पिछड़ा वर्ग को दिए गए आरक्षण के लाभ को हड़प लिया जा रहा है। ऐसे में भारत सरकार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हस्तक्षेप करने की मांग उठी है। इसको लेकर एक दिवसीय धरना का आयोजन किया गया। एक दिवसीय धरना अखिल भारतीय अति पिछड़ा आरक्षण समर्थक मोर्चा के द्वारा शेखपुरा कलेक्ट्रेट के आगे दिया गया । इसमें मोर्चा के अधिकारी पिंटू चंद्रवंशी सहित कई लोग शामिल हुए।
 
समारोह में प्रधानमंत्री के नाम से एक विज्ञापन भी तैयार कर जिलाधिकारी को दिया गया। इस ज्ञापन में कहा गया कि आरक्षण का लाभ सिर्फ मजबूत ओबीसी जातियां हड़प ले रही है । अति पिछड़ा वर्ग के कोई लाभ नहीं मिल रहा है।
अति पिछड़ा वर्ग के लोग काफी कमजोर हैं और सामाजिक रुप से पीछे हैं। इनके लिए विशेष आरक्षण की मांग हो रही है। इसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार के द्वारा अति पिछड़ा वर्ग के अधिकार को लेकर 4 सदस्य रोहिणी आयोग का गठन 20 अक्टूबर 2017 में किया गया । आयोग ने 27 मार्च 2018 में रिपोर्ट सौंप दी लेकिन 13 बार आयोग का कार्यकाल बढ़ाकर 31 मार्च 2023 तक कर दिया गया है। परंतु रिपोर्ट लागू नहीं किया जा रहा है। ज्ञापन में रिपोर्ट लागू करने की मांग केंद्र सरकार से की गई है। इस मौके पर सुभाष चंद्रबंसी, इंदु देवी, उपेंद्र राम, तुलसीराम, राजेंद्र प्रसाद, कपिल सिंह इत्यादि उपस्थित रहे।
 
प्रधानमंत्री से ज्ञापन में मांग की गई है कि अति पिछड़ा का बेटा आपको कहा जाता है इसलिए आरक्षण के इंतजार में समाज है। विश्वास है कि अति पिछड़ा जातियों का सर्वांगीण विकास के लिए तत्काल प्रभाव से रोहिणी आयोग का रिपोर्ट निर्धारित तिथि को प्राप्त कर लागू किया जाएगा। अति पिछड़ा वर्ग को अलग से आरक्षण देगें।  आजादी के बाद से अति पिछड़ा वर्ग के लोगों को राजनीतिक हिस्सेदारी नगण्य है।

Share News with your Friends

Comment / Reply From

You May Also Like

Stay Connected

Newsletter

Subscribe to our mailing list to get the new updates!