latest posts

9430804472 / 7992322662
शेखपुरा

देसी शराब के अड्डे से बर्तन पटक लौट जाती है पुलिस पर नहीं हो रहा जड़ पे हमला

358views

देसी शराब के अड्डे से बर्तन पटक लौट जाती है पुलिस पर नहीं हो रहा जड़ पे हमला

शेखपुरा

बिहार में शराबबंदी के बाद गांव में देसी शराब बनाने और विदेशी शराब की बिक्री के कारोबार में काफी बढ़ोतरी हुई है । विदेशी शराब जहां तस्करी कर लाए जाते हैं वही देसी शराब गांव में भारी पैमाने पर बनाने का काम होता है। देसी शराब के बनाने के अवैध कारोबार में पुलिस की छापेमारी जब होती है तो कारोबारी भाग कर निकल जाते हैं और पुलिस चूल्हा तोड़ने और बर्तन पटकने का काम करती है।

गुरुवार को भी पटना से मिली निर्देश पर बरबीघा के नारायणपुर मोहल्ले में पुलिस ने भारी दल बल के साथ छापेमारी की परंतु शराब के कारोबारी भाग निकले। दो घरों में छापेमारी की गई वहां से देसी शराब बरामद हुआ और बर्तन गैस का चूल्हा इत्यादि को भी पुलिस ने बरामद किया। इसमें प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई। परंतु कारोबारी भाग निकले।

मीठा (छोबा) से बनाई जाती है देसी शराब

शेखपुरा जिले के शेखपुरा जिला मुख्यालय और बरबीघा मुख्यालय में मीठा (छोबा) के कारोबारी इस कारोबार के जड़ में है । मीठा छोबा के कारोबारी इसको देसी शराब कारोबारी के घर तक पहुंचाते हैं फिर वहां से पेमेंट लेकर आते हैं। इस कारोबार में मुख्य जड़ यही है। अगर मीठा और छोबा के कारोबार पर अंकुश लगा दिया जाए तो बहुत हद तक देसी शराब बनाने का काम रुक जाएगा। जिले में देसी शराब बनाने का काम छोबा से ही किया जाता है। और इस पर अंकुश लगाने पर इस पर बहुत हद तक अंकुश लग सकता है। बिहार सरकार ने इसे प्रतिबंधित कर दिया है परंतु बड़े पैमाने पर इस कारोबार व्यापारी कर रहे हैं।

error: Content is protected !!
व्हाट्सएप मैसेज करें
1
📢 ख़बरें, 📝 अपनी जन समस्या,🛣 अपने क्षेत्र की कोई घटना,कोई ख़ास बात, 💭किसी मुद्दे पर अपनी राय ,लेख/ऑडियो/विडियो/फ़ोटो 📸 Whatsapp 👁‍🗨 पर तुरंत भेज सकते है | 📲 079923 22662
Powered by