• Wednesday, 05 October 2022
खनन विभाग का फर्जी कर्मचारी द्वारा वाहनों से वसूली का वीडियो वायरल

खनन विभाग का फर्जी कर्मचारी द्वारा वाहनों से वसूली का वीडियो वायरल

खनन विभाग का फर्जी कर्मचारी द्वारा वाहनों से वसूली का वीडियो वायरल

 

बरबीघा, शेखपुरा 

 

शेखपुरा जिले के बरबीघा में खनन विभाग का आदमी बताकर ट्रक और ट्रैक्टर पर बालू लदे होने पर अवैध वसूली का खुलासा हुआ है । वाहन चालक के द्वारा वसूली का वीडियो बनाकर वायरल किया गया है। विभाग और पुलिस को भी उपलब्ध कराया गया है।

 

 यह जानकारी एक ट्रैक्टर संचालक के द्वारा ही पुलिस को दी गई है और वीडियो भी बनाया गया है। वीडियो में पैसे के लेन-देन का भी मामला सामने आया है। ₹18000 देने की बात कही गई है। वीडियो में सारी बात रिकॉर्ड है। पुलिस को भी इसके लिए आवेदन दिया गया है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। एसपी को भी यह आवेदन देने की तैयारी हो रही है। यह अवैध वसूली बरबीघा में हो रहा था।

 

क्या है पूरा मामला , कहां हो रही थी वसूली

 

दरअसल यह पूरा मामला बरबीघा नगर का है। बरबीघा नगर में ट्रैक्टर से बालू का काम नवादा जिले के शाहपुर थाना के महारत निवासी जय सिंह के द्वारा किया जाता था। बरबीघा के महावीर चौक पर ट्रैक्टर लगा हुआ था । इसी दौरान खनन विभाग का आदमी बता कर युवक आया औ पैसे की मांग करने।

 

जानकारी देते हैं जय ने बताया कि युवक के द्वारा यह कह कर पैसे की मांग किया गया कि खनन विभाग का आदमी है। पदाधिकारी अगर ट्रैक्टर पकड़ लेंगे तो बहुत पैसा देना होगा। हम लोग मैनेज कम में कर देंगे और इस तरह से ₹17000 की वसूली कर ली।

 

 

 

इस संबंध में बताया गया कि युवक का नाम अतुल कुमार और प्रयादर्शी है । इसी का जिक्र आवेदन में किया गया है। बाकी जानकारी आवेदन करने वालों को नहीं है। पुलिस अधीक्षक को इसको लेकर आवेदन देने की तैयारी है।

 

 

उधर इस संबंध में मिशन ओपी प्रभारी नवीन कुमार ने बताया कि आवेदन दिया गया है। पहले भी इस तरह की शिकायत मिली थी। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।

 

 

वही इस संबंध में जिला खनिज पदाधिकारी मोहम्मद अखलाक ने बताया कि उनको भी जानकारी दी गई है। वीडियो दिया गया है। मामले में प्राथमिकी हुई है। विभाग के द्वारा भी इस पर कार्रवाई की जा रही है। इसे गंभीरता से लिया गया है।

 

 

 

उधर इस संबंध में सर्वा निवासी अतुल कुमार ने बताया कि खनन विभाग के द्वारा बालू बेचने के लिए डीपू का लाइसेंस लिया गया है। उसी के दौरान अवैध बालू बेचने वालों की सूचना खनन विभाग को देनी है। इसीलिए ट्रैक्टर के बारे में खनन विभाग को जानकारी देने में यह विवाद हुआ है।

Share News with your Friends

Comment / Reply From

You May Also Like