• Wednesday, 05 October 2022
साइबर अपराध के काली कमाई में हो रहा बवाल: अपहरण और बरामदगी की कहानी

साइबर अपराध के काली कमाई में हो रहा बवाल: अपहरण और बरामदगी की कहानी

साइबर अपराध के काली कमाई में हो रहा बवाल: अपहरण और बरामदगी की कहानी

घाटकुसुंभा, शेखपुरा 

शेखपुरा जिले में साइबर अपराध के नेटवर्क को फैलने और फलने फूलने की वजह से अन्य अपराध की घटनाएं भी घट रही हैं।  जिला का शेखोपुरसराय थाना क्षेत्र का इलाका नालंदा जिले के कतरीसराय से सटा हुआ है । कतरीसराय को साइबर अपराध की दुनिया का गढ़ माना जाता है। वही साइबर अपराध के इसी काली कमाई और अपराध की दुनिया में अपहरण, मारपीट की घटनाएं भी घट रहे हैं । कुछ दिन पहले इसी तरह के साइबर अपराध की दुनिया से एक अपहरण की घटना हुई थी। जिसमें बरबीघा के महावीर चौक से दिनदहाड़े एक युवक को उठा लिया गया था । युवक को पुलिस ने 1 घंटे के अंदर ही घेराबंदी कर बरामद कर लिया था। अब एक अन्य मामला भी साइबर अपराध के काली कमाई और अपराध के इस दुनिया से जुड़ कर सामने आया है।

 

इसी मामले से तार जुड़ा होने की वजह से अपहरण और फिर बरामदगी की बात हुई है। दरअसल यह पूरा मामला नालंदा जिले कतरीसराय साइबर के गढ़ से जुड़ा हुआ है। यहां के वीरेंद्र महतो को पानापुर गांव निवासी मनीष साव नामक युवक के द्वारा अपहरण कर लेने की बात कही गई । 

9 सितंबर को ही अपहरण की बात उठी थी। जिसके बाद कतरीसराय पुलिस के थानाध्यक्ष शरद रंजन के द्वारा टीम के साथ स्थानीय पुलिस के सहयोग से छापेमारी की गई और अपहरण किए गए वीरेंद्र महतो को बरामद कर लिया । इस पूरे मामले में 14 लाख रुपए के लेन-देन की बात बिगड़ने से मामला बढ़ने की कही जा रही है। उधर, साइबर अपराध के इस दुनिया में काली कमाई पर कब्जे और विवाद को लेकर अन्य अपराध की घटनाएं भी बढ़ गई। सूत्र बताते हैं कि मनीषा का भी इस तरह के काली दुनिया से सरोकार रहा है। मनीष के साथ भी कई बार मारपीट और पकड़ने की घटना हुई है और वह विवादों में रह चुका है।

Share News with your Friends

Comment / Reply From