बरबीघा

डीएम सर देखिये!! कैसा है सरकारी अस्पताल, बिना पैसे के नहीं होता है इलाज

बरबीघा।

सरकारी रेफरल अस्पताल में इलाज के नाम पर जमकर पैसे की वसूली हो रही है। इलाज कराने वाले मरीजों से बिना पैसे के दवा तक नहीं दी जाती। ऐसा ही एक मामला बरबीघा नगर क्षेत्र के कोइरीबीघा निवासी शोभा देवी के साथ घटी।

कुत्ता काटने का इलाज कराने आयी

शोभा देवी अपने 3 वर्षीय पुत्र शिवांशु कुमार को कुत्ता काटने का इलाज कराने बरबीघा अस्पताल गई जहां उनसे पैसे की मांग की गई। साथ ही शोभा देवी जब तक पैसे लेकर नहीं आए बच्चे को कुत्ते काटने की दवा नहीं दी गई। शोभा देवी ने बताया कि वह घर जाकर 50 रूपये लेकर आई और जब वह पैसा एएनएम प्रियंका कुमारी दिया तब जाकर उनके बच्चे को कुत्ते काटने की दवा अस्पताल में दी गई।

उधर इस संबंध में अस्पताल प्रभारी डॉ आत्मानंद ने बताया कि मामले को संज्ञान में लेकर इसकी जांच कराई जाएगी।

जमकर होती अस्पताल में वसूली

अस्पताल में प्रसूति विभाग से लेकर अन्य विभागों में जमकर वसूली होती है। प्रसूति विभाग में किसी बच्चे के जन्म लेने के बाद ₹200 से लेकर ₹500 तक ए एन एम के द्वारा जबरदस्ती वसूली की जाती है और नहीं देने वाले मरीजों को प्रताड़ित किया जाता है।

दलाल की है सेटिंग

सरकारी अस्पताल में दलाल के जबरदस्त सेटिंग है और निजी अस्पताल के दलाल मरीज को निजी अस्पताल लेकर चले जाते हैं। ऐसा छोटी मोटी बीमारियों से लेकर गंभीर बीमारियों तक किया जाता है। अस्पताल में इस तरह की सेटिंग से कई मरीज को भारी परेशानी हो रही है।

%d bloggers like this: