latest posts

9430804472 / 7992322662
शेखपुरा

मनरेगा के नाम पर खाता खुला कर ठगी करने वालों को उत्तराखंड पुलिस ने पकड़ा

1.07Kviews
शेखपुरा
 नालंदा जिले के कतरीसराय और झारखंड के जामताड़ा को साइबर ठगी का सबसे बड़ा गढ़ माना जाता है ।  ठगी के इस हब से निकलकर अब शेखपुरा जिले में भी गांव-गांव साइबर ठगों का गिरोह सर उठाने लगा है। साइबर ठगी के इस मामले में कई युवकों को पिछले दिनों पुलिस कप्तान कार्तिकेय शर्मा के द्वारा सलाखों के पीछे भी भेजा गया। परंतु साइबर ठगी करने वाले इसमें बाज नहीं आ रहे। ताजा मामला भी इसी तरह से जुड़ा हुआ है। साइबर ठगों उत्तराखंड पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और उसे अपने साथ ले गइ।

क्या है पूरा मामला कैसे किया जाता ठगी

दरअसल यह पूरा मामला साइबर ठगी से जुड़ा हुआ है।   जिले के चाडे गांव निवासी संतोष मलिक को उत्तराखंड की पुलिस ने साइबर ठगी में गिरफ्तार किया है। इसमें लॉटरी में इनाम जीतने और पेट्रोल पंप दिलाने के नाम पर ₹17 लाख से अधिक की ठगी की गई। उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिला के सब इंस्पेक्टर निरंजन कुमार के नेतृत्व में टीम यहां पहुंची और संतोष मलिक को गिरफ्तार किया।

मनरेगा के नाम पर खाता

पुलिस ने बताया कि यह लोग मनरेगा के नाम पर गरीब लोगों का खाता खुलवाते  थे और फिर उसका एटीएम भी बनवा लेते थे। इसी एटीएम पर साइबर के द्वारा पैसे की लेनदेन होती थी।  ₹10000  गरीब को देकर एटीएम और खाता ले लिया जाता था और साइबर गिरोह को इसे ₹50000 में बेच दिया जाता था। उसी पर साइबर ठगी का सारा कारोबार होता था।  नेटवर्क से जुड़े अन्य लोगों को भी पकड़ने के लिए पुलिस छापेमारी की जिसमें चेवाड़ा थाना के बेलछी गांव में भी छापेमारी की गई परंतु वहां से ठग भाग खड़ा हुआ।
error: Content is protected !!
व्हाट्सएप मैसेज करें
1
📢 ख़बरें, 📝 अपनी जन समस्या,🛣 अपने क्षेत्र की कोई घटना,कोई ख़ास बात, 💭किसी मुद्दे पर अपनी राय ,लेख/ऑडियो/विडियो/फ़ोटो 📸 Whatsapp 👁‍🗨 पर तुरंत भेज सकते है | 📲 079923 22662
Powered by