latest posts

9430804472 / 7992322662 sathisnews@gmail.com
शेखपुरा

अपहरण की पूरी कहानी.. चंद पैसे की खातिर अपनों ने किया अपहरण…

अपहरण की पूरी कहानी.. चंद पैसे की खातिर अपनों ने किया अपहरण…

शेखपुरा न्यूज़ ब्यूरो

चन्द रुपयो की खातीर सगे ने मासूम का अपहरण कर लिया। नगर क्षेत्र के रुपनी पोखर महल्ला से चार बर्षीय आर्यन उर्फ करकू का अपहरण किया गया था। पुलिस ने कडी मेहनत के बाद अपहरण करने वाले को गिरफ्तार कर लिया।

बच्चे के माँ के फूफा ने किया अपहरण

पुलिस ने मासूम को भी बरामद कर उसके माँ के हवाले कर दिया। अपहरण करने वाला और कोई नहीं बच्चे के मां का फूफा था। बच्चे की माॅ रुबी देवी ने अभी हाल ही में जमीन की बिक्री की थी। उस बिक्री के रुपये पर उसकी नजर थी। अपहरण कर्ता सुनील राम ने पुलिस के सामने इस पूरे मामले में अपनी संलिप्ता स्वीकार कर ली है। रोते हुए बताया कि उसकी मति मारी गई थी। उसे अपने इस किये पर घोर पश्चाताप हो रहा है।

स्थान बदलते रहा

रात में बच्चे की सकुशल बरामदगी के बाद एसपी ने गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस आयोजित की। एसपी ने बताया कि अपहरण कर्ता ने बच्चे को 30 अप्रैल को ही अगवा कर लिया था। पुलिस के डर से वह बच्चे को स्थान बदल बदल कर रख रहा था। यहा से अपहरण कर बच्चे को पहले झाझा ले गया।

झाझा के बाद उसे लखीसराय के कवैया थाना अतंर्गत एक घर में रखे हुए था। एक मई को थाना में प्रथमिकी दर्ज कराने के बाद एसपी ने इस मामले में तुरंत एसडीपीओ अमित शरण के नेतृत्व में पुलिस टीम कर गठन किया गया। टाउन थानाध्यक्ष नवीन कुमारए कुसुम्भा ओपी प्रभारी मिथलेश कुमार और अनुसूचित जाति थानाध्यक्ष मिथलेश कुमार को टीम में रखा गया था।

तीन बिंदुओ पर पुलिस कर रही थी काम

अपहरण की इस घटना को सुलझाने को लेकर पुलिस तीन बिंदुओ पर काम कर रही थी। एसपी दयाशंकर ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज होते ही पुलिस ने पहले अपहरण मामले में किसी संगठित गिरोह पर निशाना साधा। पुलिस इस मामले में बच्चे के स्वतः कही भटक जाने के बारे में भी विचार कर रही थी। साथ ही पुलिस इस घटना में किसी संबंधी की संलिप्ता मामनते हुए अनुसंधान कर रही थी। एसपी ने बताया कि संबंधी द्वारा किये जाने बाले ऐसी घटना में अपराध को छिपाने के लिए बच्चे के जान का भी खतरा था।

आगंनवाडी में पढने वाली एक बच्ची ने दी पुलिस को लीड

रुपनीपोखर के आगंनवाडी में नामांकित एक बच्ची ने सुनील बिंद द्वारा करकू के अपहरण की लीड पुलिस को दी। उसके बताये अनुसार यह हुलिया सुनील का ही था। गिरफ्तारी के बाद सुनील को यहां लोने के बाद पुलिस ने उस बच्ची से उसकी पहचान पुष्ट करवा ली हैं। हालाकि अपहृत करकू सुनील को देखाकर रोना शुरु कर देता है।

stay connected

- Advertisement -

ताज़ा ख़बर

- Advertisement -
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: